2 Step Verification क्या है?

2 Step Verification क्या है? Hello दोस्तों, इस पोस्ट में आपको 2 Step Verification in hindi के बारे में जानने वाले है, यदि आप इन सवालों का जवाब हिंदी में जानना चाहते हैं तो इस पोस्ट में 2 Step Verification की पूरी जानकारी शेयर की गई है। सभी सवालों का जवाब जानने इस से जुड़ी अन्य जानकारी प्राप्त करने और 2 Step Verification कैसे काम करता है? पर भी एक नजर डालेंगे पूरी जानकारी के लिए पोस्ट को अंत तक पढ़े:

2 Step Verification क्या है?

6 मई, 2021 विश्व पासवर्ड दिवस के मौके पर, Google ने घोषणा किया था की वह अपने दो बिलियन उपयोगकर्ताओं के लिए स्वचालित रूप से two-step verification शुरू कर रहा है। लेकिन टू-स्टेप वेरिफिकेशन क्या है और टू स्टेप वेरिफिकेशन कैसे काम करता है इसे जानना बहुत ही जरुरी है की आखिर ये चीज क्या है और इसे क्यूँ लाया गया है।

Two-step verification एक ऐसी प्रक्रिया है जिसमें two authentication methods को एक के बाद एक यह सत्यापित करने के लिए किया जाता है कि एक्सेस का अनुरोध करने वाला कोई व्यक्ति या कोई चीज़ कौन है या क्या घोषित किया गया है। टू स्टेप वेरिफिकेशन एक पहचान सत्यापन करने का एक तरीका है जिसमें एक अधिकृत उपयोगकर्ता को सफलतापूर्वक प्रमाणित करने के लिए two-steps को follow करना होता है।

Single factor Two-step verification – इसमें आपको पहले चरण के रूप में आपके उपयोगकर्ता नाम/पासवर्ड का उपयोग करना होता है और फिर आपको SMS text message के माध्यम से प्राप्त होने वाले ओटीपी का उपयोग करना होता है। वहीँ,
Two-factor Two-step verification -इसमें आपको आपके उपयोगकर्ता नाम / पासवर्ड संयोजन को पहले चरण के रूप में और फिर दूसरे चरण के रूप में एक दूसरे कारक (जैसे cryptographic USB token से randomly generated code) का उपयोग करना होता है।

The difference between two-step verification and two-factor authentication

बहुत बार लोग Two-step verification को कभी-कभी two-factor authentication को एक ही चीज समझते है और confused भी रहते है लेकिन ये अलग-अलग है इसमें वेरिफिकेशन के लिए उपयोग किए जाने वाले दो आमतौर पर अनुक्रमिक तरीके भी शामिल होते हैं। हालाँकि,two-factor authentication प्रक्रियाओं के विपरीत, Two-step verification में authentication factors की एक ही श्रेणी से संबंधित हो सकती हैं, और two-factor authentication के लिए उपयोग की जाने वाली विधियाँ आवश्यक रूप से जरुरी नहीं हैं।

इसे भी पढ़ लीजिये:

IMEI Full Form in Hindi – आईएमईआई नंबर क्या है?

VPN Full Form – वीपीएन क्या है?

Bitcoin क्या है? – Bitcoin in Hindi

NFT Full Form in Hindi – एनएफटी क्या है?

eSIM क्या है? – eSIM Full Form

इसके अलावा हम देखे तो, verification and authentication पूरी तरह से एक दुसरे के पर्यायवाची भी नहीं हैं। Verification वास्तविक दुनिया की प्रक्रिया का हिस्सा हो सकता है जैसे की  उदाहरण के लिए, पहचान के प्रमाण के रूप में ड्राइवर का लाइसेंस प्रदान करना। Authentication को automated and online systems की सुरक्षा के लिए डिज़ाइन की गई verification processes के अनुकूलन माना जाता है।

2 Step Verification कैसे काम करता है?

सामान्य तौर पर देखा जाए तो , टू स्टेप वेरिफिकेशन एक ऑथेंटिकेशन का प्रोसेस या प्रक्रिया है, जहां पर यूजर को अपना यूजरनेम, पासवर्ड और सिस्टम द्वारा जेनरेट किया गया वेरिफिकेशन कोड डालना होता है। उपयोगकर्ता नाम और पासवर्ड knowledge factor का एक हिस्सा हैं। first verification step को पूरा करने के लिए users को जानकारी के दोनों हिस्सों की जानकारी होनी चाहिए।

टू स्टेप वेरिफिकेशन के दूसरे घटक के लिए उपयोगकर्ता को प्रमाणीकरण प्लेटफ़ॉर्म का दूसरा knowledge factor देने की आवश्यकता होती है। यह गुप्त कोड उपयोगकर्ता को किसी अन्य communication channel (जैसे की SMS text message, ईमेल या authentication app के माध्यम से) के माध्यम से सूचित किया जाता है। सिस्टम तक पहुंच प्राप्त करने के लिए उन्हें एक निर्धारित समय के अन्दर ही सही verification code डालना होता है। निर्धारित समय के भीतर एक मान्य कोड दर्ज करने में विफल रहने पर परिणामस्वरूप authentication attempt fail हो जाएगा।

Conclusion:

इस post के माध्यम से हमारा एक ही मकशद था की, लोगों को Two-step verification और इससे जुड़ी सारी महत्वपूर्ण जानकारी हमारे इस article से मिले। हम उम्मीद करते है की आपको इस article को पढ़ कर के सही से चीजों की जानकारी मिली होगी। आप इस आर्टिकल को अपने दोस्तों और अन्य लोगों में भी शेयर कर सकते है, ताकि इसके बारे में सभी को जानकारी मिल पाए।

Scroll to Top